Android फोन तो हम सब इस्तेमाल करते होंगे,  मगर क्या आप जानते हैं कि आप अपने एंड्रॉयड फोन का कीबोर्ड चेंज कर सकते हैं,  Android के Play Store पर आपको बहुत से थर्ड पार्टी ऐप्स मिल जाएंगे जिन्हें आप अपने Android के कीबोर्ड की जगह इस्तेमाल कर सकते हैं। 

उन्हीं कीबोर्ड ऐप्स में से दो ऐप्स बहुत ही ज्यादा प्रचलित है। 

एक Google का खुद का बनाया हुआ Gboard, और दूसरा Swiftkey, और इस आर्टिकल में हम इन्हीं दोनों प्रचलित एप्स को एक दूसरे के साथ कंपेयर करेंगे और बताएंगे कि आपके लिए सबसे बेहतर कीबोर्ड कौन सा रहेगा।

मैं यह आर्टिकल दोनों ही एप्स को काफी दिन अपने फोन में इस्तेमाल करने के बाद लिख रहा हूं। 

लेआउट और डिजाइन

चाहे आप कौन सा भी कोई बोर्ड इस्तेमाल करना चाहें,  यह आपकी स्क्रीन का 30% हिस्सा कवर कर लेते हैं क्योंकि यह आप आपको पूरा कीबोर्ड का एक्सपीरियंस देते हैं,  ऐसे में एक बैलेंस बहुत जरूरी है ताकि कीबोर्ड इतना छोटा भी ना हो कि आप सही से टाइप भी ना कर पाए

इस मामले में दोनों ही कीबोर्ड काफी अच्छे हैं क्योंकि दोनों ही आपको ऑप्शन देते हैं कीबोर्ड के साइज को घटाने और बढ़ाने का।

इसके साथ ही दोनों ही कीबोर्ड में थीम्स सपोर्टेड है, इसका मतलब है कि आप किसी भी रंग का कीबोर्ड इस्तेमाल कर सकते हैं। मैं दोनों ही app में काले रंग का कीबोर्ड इस्तेमाल करता हूं। 

Google पर सर्च करना और Messaging apps में शेयर करना

एक फीचर जोके Gboard का सबसे बेहतरीन फीचर माना जाता है, वह है, ऍप के अंदर कि आप Google सर्च कर सकते हैं, जो कि आपको कोई भी कीबोर्ड नहीं देता है.

इससे होता यह है कि, आप किसी भी चीज के बारे में झट से खोज कर उसे तुरंत मैसेज में शेयर कर सकते हैं। 

जबकि Swiftkey app  मैं आपको कीबोर्ड से बाहर निकलकर, गूगल सर्च में जाना होगा, और फिर उस चीज के बारे में खोज करनी होगी, फिर उसको कॉपी करके Messenger ऐप में आना होगा और फिर कॉपी के जवाब दो पेश करना होगा। 

एक या दो बार करने में कोई परेशानी नहीं है मगर आप दिन में बहुत बार सर्च करके  उस जवाब को WhatsApp ग्रुप या किसी और मैसेजिंग आपके ग्रुप में शेयर करते हैं तो Gboard  आपका बहुत सा समय बचाता है।  और इस मामले में यह आप सबसे बेस्ट है

एक क्लिपबोर्ड,  इंफॉर्मेशन को कॉपी पेस्ट करने के लिए। 

अगर आप अपनी रोजमर्रा की जिंदगी में मस्सागिंग एप्स या वेबसाइट पर कुछ शेयर करते हैं, जो आपको बार-बार करना पड़ता है तो उसके लिए Swiftkey ऍप बहुत ही जबरदस्त है क्योंकि इसके अंदर एक क्लिपबोर्ड मैनेजर है, जहां पर आपके पिछले कुछ कॉपी किए गए इंफॉर्मेशन स्टोर रहती है और आप उस क्लिपबोर्ड से जाकर कोई सी भी इंफॉर्मेशन को पेस्ट कर सकते हैं। 

तो अगर आप कोई फोन नंबर या एड्रेस या कोई और इंफॉर्मेशन को बार-बार शेयर करना चाहते हैं तो उसे क्लिपबोर्ड में पिन कर सकते हैं जिसके बाद, आपको कहीं पर बीच पेस्ट करने में कहीं से दोबारा कॉपी नहीं करना पड़ेगा। यह भी बहुत समय बचाता है और केवल Swiftkey app में ही मिलता है

सबसे तेज टाइपिंग किस ऐप में होती है?

हम बात करते हैं सबसे तेज टाइप करने की क्योंकि की बोर्ड का काम है टाइप करना, इस विषय पर भी मैंने काफी टेस्ट किए और पाया कि दोनों लगभग बराबर पर ही आते हैं, क्योंकि यह दोनों ऐप आपको कीबोर्ड का साइज़ सिलेक्ट करने का ऑप्शन देते हैं। 

दोनों ही आपके अंदर एक ऐसा फीचर है जिसकी मदद से आप बहुत तेज से टाइप कर सकते हैं,  कीबोर्ड में इसे Glide बोला जाता है, और Swiftkey मैं इसे Flow बोला जाता है। 

दोनों तकरीबन एक ही तरह से काम करते हैं, अगर आपको कोई शब्द लिखना है, तो आपको केवल अपनी उंगलियों कोउस शब्द में इस्तेमाल किए हुए हर एक शब्दकोश तक ले जानी है और यह कीबोर्ड अपने आप ही उस शब्द को टाइप कर देंगे। 

इस फीचर को सीखने में थोड़ा समय लगता है मगर एक बार जब आपको इसकी आदत पड़ जाती है तो आपकी टाइपिंग बहुत ही तेज हो सकती है। 

विशेष वर्ण और विराम चिह्न

अब हम दोनों ऐप की तुलना के अंतिम भाग में आते हैं जहां पर हम बात करेंगे विशेष वर्ण और विराम चिन्ह के बारे में,  दोनों ही आपस में, विशेष वर्ण और विराम चिन्ह सही जगह पर रखे गए हैं जहां से आप इनका इस्तेमाल आसानी से कर सकते हैं। 

मगर Swiftkey की प्लेसमेंट मुझे ज्यादा सही लगती है, खासकर जिन विराम चिन्ह का इस्तेमाल मैं करता हूं वह मुझे आसानी से मिल जाते हैं। 

तो कौन सी ऐप है सबसे बेहतर?

जैसा की हमने दोनों ही ऐप्प्स को हर वर्ग में तुलना करके बताया है, तो अगर आपने पूरा आर्टिकल पढ़ा होगा तो यह जवाब साफ हो गया होगा कि कौन सी ऐप आपके लिए सबसे बेस्ट है। 

अगर आप  अपनी रोजमर्रा की जिंदगी में Google सर्च का  बहुत ज्यादा इस्तेमाल करते हैं तो Gboard आपको काफी पसंद आएगा

और अगर आप  बहुत ही छोटी छोटी इंफॉर्मेशन को कॉपी पेस्ट करना चाहते हैं तो Swiftkey का क्लिपबोर्ड मैनेजर का पिक्चर आपको काफी पसंद आएगा। 

बाकी चीजों की बात करें तो दोनों ही आप आपको निजीकरण का फीचर देते हैं। 

उम्मीद करता हूं आपको यह आर्टिकल पसंद आया होगा और आप बाकी tech आर्टिकल्स भी जाने डॉट कॉम पर पढ़ सकते हैं

You can read the English version of this article  Gboard (Google Keyboard) vs Swiftkey on Techtippr.com

loading...